Tuesday, 24 May 2016

इसी साल अपने 'घर' जाएं इंजीनियरिंग कालेज

---
-मंत्री ने दिये निदेशकों को स्वयं सक्रियता बढ़ाने के निर्देश
-नए कालेजों में जल्द भरे जाएंगे शिक्षकों के 330 पद
----
राज्य ब्यूरो, लखनऊ : दूसरे कालेजों में 'शरण' पाए राजकीय इंजीनियरिंग कालेजों को इसी साल अपने 'घर' भेज दिया जाएगा। इसके लिए प्राविधिक शिक्षा मंत्री ने निदेशकों को स्वयं सक्रियता बढ़ाने के निर्देश दिये हैं। नए कालेजों में शिक्षकों के 330 पद भी जल्द भरे जाएंगे।
प्रदेश में ताबड़तोड़ इंजीनियरिंग कालेज तो खोल दिये गए लेकिन उनके लिए आधारभूत ढांचा मुहैया नहीं कराया गया। इसके परिणामस्वरूप आज भी कई इंजीनियरिंग कालेज पराये 'घर' में संचालित हो रहे हैं। मैनपुरी व कन्नौज के इंजीनियरिंग कालेज एचबीटीआइ कानपुर में चल रहे हैं। मैनपुरी में अभी सिविल इंजीनियङ्क्षरग की पढ़ाई हो रही है और नए सत्र में दो और शाखाओं में बीटेक की शुरुआत होनी है। इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के साथ खुले कन्नौज कालेज में इस वर्ष तीन नयी शाखाओं में प्रवेश का प्रस्ताव है। सोनभद्र कालेज कंप्यूटर साइंस में पढ़ाई के साथ केएनआइटी सुलतानपुर में चल रहा है और इस वर्ष वहां दो और शाखाओं में पढ़ाई शुरू होनी है। इन कालेजों के लिए अलग निदेशक नियुक्त किये जा चुके हैं और भवन भी बन चुके हैं।
कई बार कोशिशों के बावजूद यह कालेज अपने परिसरों में स्थानांतरित नहीं हो पाए हैं। इस पर प्राविधिक शिक्षा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) फरीद महफूज किदवई ने सख्त रुख अख्तियार किया है। उन्होंने सभी कालेजों के निदेशकों को बुलाकर साफ कहा है कि अगले दो महीने में रहा-सहा कामकाज निपटाकर हर हाल में सभी कालेज सत्र शुरू होने से पहले अपने नये परिसर में स्थानांतरित हो जाने चाहिए। इसके लिए इन कालेजों में शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया तेज करने को कहा है। इन तीनों कालेजों में 46-46 शिक्षकों के साथ बांदा, बिजनौर, आजमगढ़ व अंबेडकर नगर में शिक्षकों के 48-48 पद सृजित किये जा चुके हैं। मंत्री ने इन सभी कालेजों के लिए 330 शिक्षकों की नियुक्ति समयबद्ध ढंग से जल्द करने के निर्देश दिये। नए कालेजों के स्थानांतरण व अन्य कामकाज के लिए मैनपुरी के निदेशक प्रो.एनबी सिंह को नोडल अधिकारी बनाया गया है। उन्होंने बताया कि सभी कालेजों में जो थोड़ा-बहुत काम बाकी है, उसे तेज रफ्तार से पूरा कराया जा रहा है। ये सभी कालेज वाई-फाई व हाइ-एंड हॉस्टल सहित उत्कृष्ट सुविधाओं से लैस होंगे। इन्हें जल्द ही अपने परिसरों में शिफ्ट किया जाएगा।

No comments:

Post a Comment