Wednesday, 20 April 2016

'सीपीएमटी के लिए आएं, बिस्तर साथ लाएं'


----
-परीक्षा के बाद सुरक्षा जांच के लिए पड़ सकता है रुकना
-फार्म भरते समय स्कैन कराया अंगूठा, कई बार होगी जांच
----
राज्य ब्यूरो, लखनऊ : प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा संस्थानों में एमबीबीएस, बीडीएस, बीएएमएस व बीएचएमएस में प्रवेश के लिए आगामी 17 मई को प्रस्तावित संयुक्त प्रवेश परीक्षा (सीपीएमटी) को लेकर इस बार अतिरिक्त सावधानी बरती जा रही है। विद्यार्थियों से कहा गया है कि वे परीक्षा देने के लिए पूरी तैयारी से आएं, क्योंकि परीक्षा के बाद जांच आदि के लिए रुकना पड़ सकता है।
उत्तर प्रदेश में सीपीएमटी कई बार विवादों में घिर चुकी है। तमाम शुचिता के दावों के बावजूद वर्ष 2015 में हुई सीपीएमटी को लेकर आज भी वाद उच्च न्यायालय में लंबित हैं। इस बार सीपीएमटी कराने का जिम्मा डॉ.राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय, फैजाबाद को सौंपा गया है। कोई गड़बड़ी न होने देने के लिए प्रशासनिक जवाबदेही बढ़ाने का फैसला हुआ है। चिकित्सा शिक्षा विभाग ने शासन से सीपीएमटी के दौरान जिलाधिकारियों व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों की भूमिका सुनिश्चित करने और परीक्षा केंद्रों पर एसटीएफ तक तैनात करने को कहा है। यही कारण है मुख्य सचिव ने 28 अप्रैल को अधिकारियों की बैठक बुलाई है।
इस बार सर्वाधिक जोर फर्जी परीक्षार्थियों पर अंकुश को लेकर है। फॉर्म भरते समय ही दाएं हाथ के अंगूठे की छाप स्कैन कर ऑनलाइन अपलोड कराई गयी है। 17 मई को परीक्षा केंद्र पर अभ्यर्थी के पहुंचते ही उसकी फोटो खिंचेगी और साथ ही बायोमैट्रिक डेटा, फिंगर प्रिंट आदि लिया जाएगा। परीक्षार्थी के अंगूठे की छाप से भी मिलान किया जाएगा। इसके बाद सफल होने पर काउंसिलिंग के समय, प्रवेश के समय और फिर छह माह पढ़ाई के बाद भी अंगूठे की छाप व अन्य बायोमैट्रिक डेटा का सत्यापन कराया जाएगा। छात्र-छात्राओं को परीक्षा के बाद बायोमीट्रिक व अन्य जांचों के लिए रोकने की भी तैयारी है। प्रॉस्पेक्टस में स्पष्ट कर दिया गया है कि उन्हें परीक्षा के बाद रुकना पड़ सकता है, इसलिए लौटने का रिजर्वेशन या अन्य प्रबंध उसी के अनुरूप कराएं। स्पष्ट लिखा गया है कि यह प्रक्रिया अनिवार्य रहेगी और इसमें हिस्सा न लेने वाले परीक्षार्थी की उम्मीदवारी निरस्त कर दी जाएगी। वैसे इस परीक्षा से जुड़े रहे लोग छात्र-छात्राओं को बिस्तर-चादर आदि लेकर जाने की सलाह दे रहे हैं, ताकि केंद्र के आसपास यदि ज्यादा देर रुकना पड़े तो दिक्कत न हो।
15 शहरों में परीक्षा
आगरा, अलीगढ़, इलाहाबाद, बरेली, फैजाबाद, गाजियाबाद, गोरखपुर, झांसी, कानपुर, लखनऊ, मेरठ, मुरादाबाद, नोएडा, सहारनपुर, वाराणसी
एक घंटा पहले पहुंचें
परीक्षा मंगलवार, 17 मई 2016 को सुबह नौ से बारह बजे तक होगी। जंतु विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, रसायन विज्ञान व भौतिक विज्ञान का एक पेपर होगा। परीक्षार्थियों को केंद्र पर एक घंटा पहले रिपोर्ट करना होगा। परीक्षा तिथि नहीं बदलेगी, भले ही उस दिन सार्वजनिक अवकाश घोषित हो जाए।

No comments:

Post a Comment