Friday, 26 February 2016

आइआइटी की साझेदारी से लहराएंगे डिजाइन का परचम

-नोएडा के स्कूल ऑफ डिजाइन को आइआइटी गुवाहाटी की मदद
-बीडेस व एमडेस पाठ्यक्रमों के लिए जल्द होंगे एमओयू पर हस्ताक्षर
----
राज्य ब्यूरो, लखनऊ : प्रदेश में डिजाइन क्षेत्र में मजबूती के लिए प्राविधिक शिक्षा विभाग विशेषज्ञ तैयार करने की मशक्कत में जुट रहा है। इसके लिए एक अलग स्कूल ऑफ डिजाइन की स्थापना का प्रस्ताव है। इसमें आइआइटी की साझेदारी से दुनिया में सूबे की डिजाइन का परचम लहराने की तैयारी है।
प्रदेश के प्राविधिक शिक्षा विभाग ने डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (एकेटीयू) के नोएडा कैम्पस में स्कूल ऑफ डिजाइन की स्थापना का फैसला किया है। इस काम में उत्कृष्टता बनाए रखने के लिए आइआइटी गुवाहाटी की मदद ली जाएगी। इस बाबत मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग को अंतिम रूप दिया जा रहा है। जल्द ही प्रदेश शासन, एकेटीयू और आइआइटी गुवाहाटी के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर हो जाएंगे। उसके बाद पाठ्यक्रम संरचना से लेकर अन्य बिंदुओं को मूर्त रूप दिया जाएगा।
प्रमुख सचिव (प्राविधिक शिक्षा) मुकुल सिंघल के मुताबिक इस डिजाइन संस्थान के माध्यम से सूबे की प्रतिभा तराशने का काम किया जाएगा। आइआइटी गुवाहाटी व कानपुर में सफलतापूर्वक डिजाइन में स्नातक व परास्नातक कार्यक्रम चल रहे हैं, इसलिए इन संस्थानों से सहयोग लेने का फैसला हुआ है। इसके बाद यूपी में बैचलर ऑफ डिजाइन (बीडेस) व मास्टर ऑफ डिजाइन (एमडेस) पाठ्यक्रम शुरू किये जाएंगे। इन पाठ्यक्रमों का नियोजन विभिन्न विधाओं की विशिष्टताओं को जोड़ कर किया जाएगा। इसके लिए उद्योगों की मदद तो ली ही जाएगी, दुनिया के प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय डिजाइन संस्थानों से भी हाथ मिलाए जाएंगे। इस बाबत प्रक्रियागत शुरुआत कर दी गयी है। अगले सत्र तक यह संस्थान मूर्त रूप ले लेने की उम्मीद है। स्कूल ऑफ डिजाइन की स्थापना के लिए समन्वयक बनाए गए डॉ.वीके सिंह के मुताबिक आइआइटी गुवाहाटी इस संस्थान का मेंटर संस्थान होगा। यही कारण है कि संस्थान की स्थापना के लिए बनाई गयी कोर कमेटी में आइआइटी गुवाहाटी के निदेशक गौतम विश्वास को शामिल किया गया है। उनके साथ आइआइटी कानपुर के सात्यकी रे भी इस कोर कमेटी का हिस्सा हैं। 

No comments:

Post a Comment