Wednesday, 23 December 2015

अगले माह खातों में पहुंचेगी छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति

----
-17 लाख छात्र-छात्राएं होंगे लाभान्वित
-22 लाख के आवेदन हो गए हैं निरस्त
----
राज्य ब्यूरो, लखनऊ : लंबी प्रतीक्षा और खासी जांच-पड़ताल के बाद अगले माह छात्र-छात्राओं के खातों में छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति पहुंच जाएगी। समाज कल्याण विभाग ने इसके लिए अंतिम समय सारिणी घोषित कर दी है।
धनाभाव के कारण पढ़ाई न रुकने देने के लिए दो लाख से कम आय वर्ग वाले परिवारों के छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति का प्रावधान किया गया है। समाज कल्याण विभाग अनुसूचित जाति, जनजाति व सामान्य वर्ग, पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग अन्य पिछड़ा वर्ग व अल्पसंख्यक कल्याण विभाग अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति का नियोजन करता है। कुछ वर्षों में छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति में हुए गडबड़घोटाले के बाद इस बार आवेदन से लेकर अंतिम दौर तक खासी स्क्रीनिंग की गयी। इस स्क्रीनिंग का ही परिणाम था वर्ष 2015-16 में छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति के लिए कुल 39 लाख छात्र-छात्राओं ने आवेदन किया था, जिसमें से 22 लाख आवेदन विभिन्न कारणों से निरस्त हो गये हैं। इसमें से ज्यादातर ऐसे छात्र-छात्राएं हैं, जिन्होंने फर्जी प्रमाणपत्रों का सहारा लिया और उसका खुलासा होने पर उन्हें छात्रवृत्ति न देने का फैसला हुआ है। साथ ही संबंधित संस्थानों व छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी भी चल रही है।
जिन 17 लाख छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति का भुगतान होना है, उनके लिए पूरी समय सारिणी की घोषणा कर दी गयी है। इसके अनुसार जिला छात्रवृत्ति स्वीकृति समिति संदिग्ध पाए गए आवेदनों के संबंध में 10 जनवरी 2016 तक फैसला ले लेगी। साथ ही जिन छात्र-छात्राओं के आवेदन सही पाए गए हैं, उनके ब्योरे को जिला स्तरीय विभागीय अधिकारी के डिजिटल सिग्नेचर से हर हाल में 10 जनवरी तक लॉक कर दिया जाएगा। इस ब्योरे के आधार पर एनआइसी की राज्य इकाई 15 जनवरी तक मांग सृजित कर लेगी। इसके बाद 31 जनवरी तक छात्र-छात्राओं के बचत खातों में कोषागार से ई-पेमेंट के तहत सीधे धनराशि भेज दी जाएगी। 

No comments:

Post a Comment